नमस्कार मित्रो आज हम आपको डीएनए क्या है और DNA Full Form in Hindi से जुडी जानकारी बताने वाले है वर्तमान समय आधुनिक टेक्नोलॉजी का है और समय के साथ-साथ साइंस ने इतनी तरक्की कर ली है, कि आज के समय में कई सारी समस्याओं का समाधान साइंस द्वारा किया जा सकता है|

DNA Full Form in Hindi

साइंस के अध्ययन में सभी चीजों पर काफी गहराई से रिसर्च की जाती है। और साइंस के द्वारा ही समय-समय पर नए-नए आविष्कार किए जाते हैं| वर्तमान समय में साइंस के जरिए अंतरिक्ष से लेकर मानव हेल्थ तक के कई क्षेत्रों में बड़ी बड़ी उपलब्धियां हासिल कर चुका है अगर आपको डीएनए के बारे में जानकारी नहीं है तो DNA Full Form in Hindi के बारे में बताई गयी जानकारी आपके लिए बहुत उपयोगी हो सकती है|

विज्ञान के द्वारा ही इंसानों में डीएनए की खोज की गई थी| अगर आप साइंस की फील्ड में है, तो आपने डीएनए का नाम अवश्य सुना होगा, परंतु आपको शायद ही इसके फुल फॉर्म के बारे में जानकारी होगी| आइए जानते हैं की डीएनए का फुल फॉर्म क्या होता है|

DNA Full Form in Hindi

डीएनए क्या होता है और डीएनए किसे कहते है इसके बारे में बताने से पहले हम आपको DNA के पुरे नाम के बारे में बता रहे है

DNA Full Form in Hindi – Dioxyribo Nucleic Acid होता है

इसे हिंदी मे डीऑक्सीराइबोज न्यूक्लिक अम्ल के नाम से जाना जाता है| डीएनए एक तंतुनुमा अणु होता है, जो इंसानों की कोशिकाओं के गुणसूत्र में प्राप्त होता है आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इसका संबंध इंसानों की जीवित कोशिकाओं से होता है और डीएनए की आकृति लहरदार सीढ़ी की जैसी दिखाई देती है इंसान चाहे तो डीएनए को 3D संरचना के द्वारा साफ तौर पर देख सकता है| दो फिलामेंट के द्वारा डीएनए का निर्माण किया जाता है|

डीएनए की संरचना भी इन्हीं दोनों फिलामेंट से मिलकर होती है| यह दोनों फिलामेंट घुमावदार संरचना का निर्माण चारों ओर से करते हैं और इनके द्वारा बनाई गई संरचना को ही हम DNA के नाम से जानते हैं|

डीएनए का मतलब क्या होता है

जैसा कि हमने आपको ऊपर बताया कि डीएनए को डीऑक्सीराइबो न्यूक्लिक अम्ल के नाम से जाना जाता है और यह एक प्रकार की लहर दार आकृति होती है|

इसके अंदर डीएनए के अणु जैसे कि ग्वानिन, ऐडेनिन, थाइमिन और साइटोसिन होते हैं और इन डीएनए के अणुओं को न्यूक्लियोटाइड के नाम से जाना जाता है|

हमारी बॉडी में कोशिकाओं का निर्माण करने के लिए प्रोटीन की काफी अधिक डिमांड रहती है और प्रोटीन के निर्माण में न्यूक्लियोटाइड बहुत ही महत्वपूर्ण होता है|

डीएनए का काम क्या होता है?

डीएनए एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में ट्रांसफर होता रहता है और इसके द्वारा ही पीढ़ी में होने वाले बदलाव के बारे में इंफॉर्मेशन इकट्ठा की जा सकती है|

डीएनए के माध्यम से इंसानी शरीर की कोशिकाओं में इंफॉर्मेशन को काफी लंबे समय तक सेफ रखा जा सकता है और इन इंफॉर्मेशन का इस्तेमाल विभिन्न प्रकार के गुप्त रहस्य का पता लगाने के लिए किया जा सकता है, जिससे कि व्यक्ति के असली वारिस या फिर वंशज के बारे में भी जानकारी प्राप्त हो सकती है|

डीएनए के अंदर अनुवांशिकी जानकारी का एक स्टोर होता है और इस स्टोर को ही जीन कहा जाता है| इसी के साथ अनुवांशिक इंफॉर्मेशन के सब्जेक्ट में इंफॉर्मेशन मिलती है और इसके द्वारा ही अनुवांशिक गुणों को एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में ट्रांसफर किया जाता है|

डीएनए कितने प्रकार का होता है

सामान्य तौर पर जीवों में मुख्य रूप से तीन प्रकार के डीएनए होते हैं, जो इस प्रकार है|

  • A – DNA
  • B – DNA
  • Z – DNA

1: A-DNA

इस डीएनए में दोनों साइड के फिलामेंट छोटी-छोटी, चौड़े खांच के बने होते हैं तथा इसमें 10.9 / 11 क्षार युग्म प्राप्त होते है|

2: B-DNA

इस प्रकार के डीएनए में दोनों साइड के फिलामेंट्स पतले और लंबे होते हैं, इसकी खांच गहरी तथा उथली हुई होती है, इसके प्रत्येक स्तर में 10.9 / 11 क्षार युग्म पाए जाते है |

3: Z-DNA

इस डीएनए में दोनों साइड के फिलामेंट लंबे तथा पतले होते हैं, परंतु इस डीएनए में खाचे केवल गहरी होती है और यह जिगजैग के आकार की तरह पाया जाता है| इसीलिए इसे जेड- डीएनए कहा जाता है| इसके हर लेवल में 12 क्षार युग्म प्राप्त होते हैं|

डीएनए की खोज किसने की?

अमेरिका के बायोलॉजिस्ट जेम्स वाटसन और इंग्लिश फिजिसिस्ट फ्रांसिस क्रिक ने साल 1950 में डीएनए की खोज की थी और इसके पहले साल 1969 में जर्मन बायोकेमिस्ट्स Frederich Miescher ने पहली बार डीएनए के बारे में पता लगाया था|

डीएनए का क्या महत्व है

डीएनए बेहद ही महत्वपूर्ण माना गया है इसके कई कारण है जिसके लिए इसको महत्वपूर्ण माना गया है डीएनए के कारण काफी समस्याओं का समाधान हुआ है इसमें से कुछ मुख्य बाते हम आपको बता रहे है|

  • जैसे डीएनए का इस्तेमाल करके वैज्ञानिक मानव शरीर में कौन सी बीमारी है उसका पता बड़ी ही आसानी से लगा सकते हैं और इसके कारण उसकी ट्रीटमेंट जल्दी से की जा सकती है|
  • इसके अलावा कभी-कभी किसी इन्सान के असली पिता कौन है यह पता करने के लिए भी डीएनए का मिलान करवाया जाता है और इस तरह से यह पता लग जाता है कि उस आदमी का असली पिता कौन है|
  • खेती के क्षेत्र में भी डीएनए का प्रभाव काफी अच्छा है, क्योंकि इसका इस्तेमाल करके वैज्ञानिक उन्नत किस्म की फसल तथा उन्नत किस्म के जानवरों को उत्पादित करने की कोशिश करते हैं|

इससे आप समझ गए होंगे की यह हमारे लिए किस कारण से महत्वपूर्ण माना गया है व इसका इस्तमाल डॉक्टर या वैज्ञानिको द्वारा कई अलग अलग कारणों से किया जाता है|

Calculation – इस आर्टिकल में हमने आपको DNA Full Form in Hindi और डीएनए क्या है इससे जुडी जानकारी देने का प्रयत्न किया है हमे उम्मीद है की आपको इसके बारे में बताई जानकारी उपयोगी लगी होगी अगर आपको जानकारी अच्छी लगे तो इसे सोशल मीडिया पर शेयर करें और डीएनए से जुडी किसी भी प्रकार की जानकारी पाना चाहते है तो आप कमेंट कर के बता सकते है|

पिछला लेखBBA Full Form in Hindi : BBA क्या है और कैसे करें
अगला लेखAmul Full Form in Hindi : अमूल से जुडी पूरी जानकारी हिंदी में

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें